CBI डॉयरेक्टर जोगिंदर सिंह ने EX CM डॉ. जगन्नाथ मिश्र से माफी मांगी थी!

बिहार कवरेज यह दावा डॉ. जगन्नाथ मिश्र के पुत्र और भाजपा नेता नीतीश मिश्र ने कल अपने ऑफिशियल फेसबुक पेज पर किया है. उनका कहना है कि सीबीआई के पूर्व निदेशक जोगिंदर सिंह ने अपनी किताब इनसाइड सीबीआई में उनके पिता डॉ. जगन्नाथ मिश्र पर कुछ भ्रामक तथ्य लिख डाले थे और इस वजह से उनके पिता ने 1999 में जोगिंदर सिंह पर मानहानि का मुकदमा कर दिया था. 2009 में जोगिंदर सिंह ने डॉ. मिश्र से इस मामले में माफी भी मांगी थी. इस केस का नंबर था सीएस…

Read More

क्यों 1996 का ‘चारा’ ट्रेंड कर रहा है और 2017 का ‘सृजन’ डिबेट से भी बाहर है?

P.M. इन दिनों हमलोग 20 साल पुराने चारा घोटाले की बहसों में बिजी हैं. पुराने अखबारों की कतरनें शेयर की जा रही हैं. पुराने पत्रकार उन दिनों की कहानियां सुना रहे हैं कि किस तरह स्कूटर पर गायों का चारा ढोया गया था. उस कलेक्टर का इंटरव्यू शेयर हो रहा है, जिसके बारे में कहा जा रहा है कि उसने इस घोटाले का भंडाफोड़ किया था. वहीं, यह बहस भी है कि घोटाले के अदालती फैसले भी क्या जातीय नजरिये से हो रहे हैं. कुल मिलाकर बिहारी पब्लिक को बीस…

Read More

‘महज तीन निर्दोष चिट्ठियों की सजा बीस साल तक भुगतते रहे जगन्नाथ मिश्र’

प्रत्युष सौरभ राजा कल जैसे ही चारा घोटाला के देवघर ट्रेजरी मामले में डॉ जगन्नाथ मिश्र की रिहाई की खबर आयी, राजनीतिक हलकों में यह बात जोर-शोर से यह बात कही जाने लगी कि अगर लालू दोषी हैं तो डॉ मिश्र निर्दोष कैसे. दरअसल जैसे ही चारा घोटाला का नाम आता है, लोग बिना तथ्य और सच्चाई जाने यह मान लेते हैं कि डॉ जगन्नाथ मिश्र पर भी चारा घोटाले में गलत तरीके से सरकारी खजाने से पैसा निकालने के आरोप हैं. जबकि सच्चाई यह है कि चारा घोटाला डॉ…

Read More

चारा घोटाला- जिसने सामाजिक न्याय के योद्धा को एक सत्तालोलुप मसखरे में बदल दिया

(आज के प्रभात खबर में प्रकाशित आलेख में कुछ जोड़-घटाव के साथ) पुष्यमित्र अगले साल सत्तर की दहलीज को छूने वाले लालू प्रसाद यादव कभी-कभी एकांत में निश्चित रूप से सोचते होंगे कि काश यह चारा घोटाला नहीं होता तो उनकी राजनीतिक जीवन की दिशा और दशा ही कुछ और होती. बिहार ही नहीं देश के सबसे विवादास्पद और सबसे मशहूर राजनेता लालू के राजनीतिक जीवन पर चारा घोटाला आज किसी ग्रहण की तरह छाया नजर आता है. अपने 40 साल के राजनीतिक जीवन में लालू ने 21 साल तक…

Read More

यह कैसा न्याय है? लालू तो ‘ललुआ’ हो जाते हैं, जगन्नाथ ‘बाबू’ ही रह जाते हैं

सवाल सिर्फ सीबीआई की जांच और अदालती प्रक्रियाओं का नहीं है, मीडिया और बौद्धिक समाज का भी है. जिसके लिए घोटाला का आरोप लगते ही लालू ‘ललुआ’ हो जाता है. जबकि देश में सैकड़ों नेता भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद सम्मानित तरीके से पुकारे जाते रहे हैं. राजनीतिक अध्येता जयंत जिज्ञासू मानते हैं कि इसके पीछे मीडिया और सवर्ण समाज का अपना पूर्वाग्रह है. चारा घोटाला तो एक बहाना था, जिसकी सूली पर लालू को लटका कर सामाजिक न्याय की प्रक्रिया को रोकने और लालू की वजह से उठे बिहार…

Read More

क्या राजद और तेजस्वी के लिए संजीवनी साबित होगी ‘जगन्नाथ’ की रिहाई?

P.M. सजा सुनाये जाने के आधे घंटे के भीतर ही वरिष्ठ राजद नेता टेलीविजन पर चीखते नजर आये… एक ही मामले में लालू को जेल और मिश्रा जी को रिहाई, यही है मोदी का खेल… देख लो, यही है मोदी का खेल… इशारा साफ था. वे इस मौके को भाजपा की ब्राह्मणवादी सोच को उजागर करने में इस्तेमाल कर रहे थे. क्योंकि ब्राह्मणवाद के खिलाफ राज्य की पिछड़ी जमात को एकजुट करना ही अब तक राजद की सबसे कारगर पोलिटिकल आइडियोलॉजी है. इसलिए जहां राजद में लालू के जेल जाने…

Read More

कनाडा सरकार का एडवाइजर बन गया है चारा घोटाला की खबर दुनिया को बताने वाला पत्रकार

बिहार कवरेज आज चारा घोटाले के एक और मामले में अदालत का फैसला आने वाला है, इस फैसले में बिहार के दो पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव और जगन्नाथ मिश्र को सजा सुनायी जा सकती है. इससे पहले भी एक मामले में (चाइबासा ट्रेजरी) लालू और जगन्नाथ को सजा सुनायी जा चुकी है, दोनों जमानत पर रिहा हैं. आज भी देवघर ट्रेजरी का मामला लगभग वैसा ही है, भले ही इसमें घोटाले की राशि कम है. इसलिए सजा भी उसी पैटर्न पर सुनायी जा सकती है. वैसे उसी पैटर्न पर इन…

Read More