बिहार का भागलपुर और झारखंड का पलामू अंचल गूंजता है ब्रह्मभोज की कहानियों में

डॉ शोभना जोशी संग्रह में कुल सत्रह कहानियाँ हैं. ये कहानियां भिन्न-भिन्न काल की हैं, जो इकट्ठा होकर समकालीन विसंगतियों का शाब्दिक कोलाज रचती हैं. ‘‘मेट’’,‘‘चाइभी’’, ‘‘पुरुष’’  कहानी को छोड़ अन्य कहानियों के सूत्र और भाषिक संरचना पर बिहार क्षेत्र का प्रभाव है, पर ‘‘पकड़वा’’ पूरी तरह बिहार की कथा है. बाकी सभी कहानियाँ हिन्दुस्तान में कहीं भी घटित हो सकती हैं, घट भी रही हैं और लगता है घटती रहेंगी भी. ये कहानियाँ स्मृतियां है, अनुभव हैं, सामाजिक यथार्थ हैं पर बगैर-शोर मचाये समाज के प्रति प्रतिबद्ध हैं. ये…

Read More