हिंदू तीर्थ साबित करने की जिद में 2000 साल पुराने सिकलीगढ़ टीले पर मंदिर बनाने की तैयारी

इस बार होली के एक दिन पहले सिकलीगढ़ गया था. इस जगह पाये गये एक प्राचीन स्तंभ को प्रह्लाद का खंबा कहा जाता है और इस साल वहां होलिका दहन का राजकीय समारोह भी शुरू हुआ है. वहां, उस पूरे इलाके को घूमने के दौरान पता चला कि यह क्षेत्र कम से कम दो हजार साल पुरानी विरासत को अपने अंदर छिपाये हुए है. पुरातत्वविद वहां की ईंटों को दो से ढा़ई हजार साल पुराना बताते हैं. मगर जिस टीले से ये ईंटें मिली हैं वहां क्रेन से खुदाई कर…

Read More

नालंदा के खंडहर ही नहीं दरभंगा की हेरिटेज बिल्डिंग्स भी हमारी धरोहर हैं

सुशांत भास्कर बिहार में जब पुरातात्विक एतिहासिक धरोहर की चर्चा करते हैं तो अक्सर गया, बोधगया,  नालंदा, पटना और वैशाली जैसे कुछ क्षेत्रों पर आकर ठहर जाते हैं, जबकि पुरावस्तुओं के संबंध में बने अधिनियम, 1972 के अनुसार कम से कम एक सौ वर्ष से विद्यमान सिक्के,  भवन, कलाकृतियों, ऐतिहासिक महत्व की कोई वस्तु, पदार्थ या चीज़ आदि शामिल हैं. भारत सरकार के द्वारा बनाये गये पुरावशेष तथा बहुमूल्य कलाकृति अधिनियम, 1972 सम्पूर्ण भारत मे लागू है. 1976 में बिहार सरकार ने बिहार प्राचीन स्मारक अवशेष तथा कलानिधि अधिनियम ,1976…

Read More