कड़ाके की ठंड में जुटे थे दसियों हजार लोग, दागे जा रहे थे किक पर किक

बिहार कवरेज कड़कड़ाती ठंड भी लोगों के उत्साह और रामरूप मेहता महोत्सव के प्रति लगाव को कम नहीं कर सकी. मंगलवार को हसपुरा फील्ड में रामरूप मेहता महोत्सव में मौसम और काम को नजरअंदाज कर दसियों हजार लोग वहां पहुंचे और समाजवादी नेता शहीद रामरूप मेहता को श्रद्धांजलि दी. कार्यक्रम के दौरान हसपुरा और इसके आसपास के तमाम रास्ते जाम की हालत में रहे. हसपुरा बाजार करीब चार घंटे तक पूरी तरह से जाम रहा. दोपहर 12 बजे से ही हसपुरा के तमाम रास्तों पर लोग आयोजन स्थल पर जाते…

Read More

क्यों बिहार के इस कस्बे को पहली के बदले दूसरी जनवरी का इंतजार रहता है?

बिहार कवरेज दिसंबर का महीना आते ही जहां पूरी दुनिया में नए साल का इंतजार शुरू हो जाता है, परंतु इसी धरती का एक ऐसा हिस्सा भी है, जहां लोग एक के बजाय दो जनवरी का इंतजार करते हैं. जैसे-जैसे यह दिन नजदीक आता है, हर चौक-चौराहे, बाजार, खेत-खलिहान, दुकान-दफ्तर पर एक ही चर्चा होती है, इस बार क्या होने वाला है. यह इलाका है औरंगाबाद जिले का हसपुरा प्रखंड. दरअसल, दो जनवरी को हसपुरा में हर साल रामरूप मेहता महोत्सव का आयोजन होता है. यह आयोजन एक स्थानीय जननायक…

Read More