इस डबल इंजन सरकार का क्या फायदा? केंद्र ने कई योजनाओं का आधा से अधिक आवंटन रोक लिया

2016 में राजद से अलग होकर जब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में भाजपा के साथ सरकार बनायी थी तो उस वक़्त यह कहा गया था कि अब यहां भी डबल इंजन सरकार होगी। मतलब राज्य और केंद्र में एक ही गठबंधन की सरकार इससे विकास की गति तेज हो जायेगी। मगर नतीजे बताते हैं कि इस डबल इंजन सरकार से बिहार को कोई खास फायदा नहीं हुआ। इस बात को आज प्रभात खबर में छ्पी इस खबर से समझा जा सकता है। खबर के मुताबिक केंद्र द्वारा…

Read More

क्या राजनीति की तसवीर बदलेंगी बिहार की ये महिलाएं?

पुष्यमित्र पिछले दिनों चुनावी यात्रा के दौरान जब मैं पूर्णिया जिले के धमदाहा अनुमंडल मुख्यालय में किरण देवी से मिल रहा था, तब तृणमूल कांग्रेस द्वारा लोकसभा चुनाव में 40 फीसदी महिलाओं को टिकट देने और कांग्रेस द्वारा जीत के बाद महिला आरक्षण को पारित कराने की खबर आयी थी. आज जब यह खबर लिख रहा हूं तो बिहार में दोनों गठबंधनों ने मिलकर 80 में से सिर्फ नौ महिलाओं को चुनावी मैदान में उतारा है. उनमें भी ज्यादातर सजायाफ्ता मुजरिमों की पत्नियां हैं. कहीं रेप के सजायाफ्ता राजवल्लभ की पत्नी…

Read More

जानिये कौन जाति राजनीतिक रूप से मजबूत है बिहार में?

अब जबकि बिहार में दोनों प्रमुख गठबंधनों के उम्मीदवारों की सूची जारी हो गयी है, ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि बिहार की कौन सी जाति राजनीतिक रूप से मजबूत है. हालांकि लोकतंत्र का सिद्धांत इस बात की खिलाफत करता है कि मतदाताओं को जात और धर्म से परे हटकर मतदान करना चाहिए. मगर जमीनी हकीकत यह है कि आज देश में ज्यादातर मतदान इसी आधार पर हो रहे हैं. इस लोकसभा चुनाव में तो बिहार में जाति ही सबसे बड़ा मुद्दा है. राजनीतिक दल न सिर्फ टिकट का…

Read More

ट्रेन जैसी बोगियों में रहते बच्चे और असुरक्षित नौकरी के बीच पिसते शिक्षक, यही है बिहार के ‘नेतरहाट’ की कहानी

पुष्यमित्र जमुई गया तो सिमुलतला आवासीय विद्यालय को देखने के मोह से खुद को बचा नहीं सका. इन दिनों जब बिहार में मैट्रिक और इंटरमीडियेटड के रिजल्ट आते हैं तो टॉप टेन में ज्यादातर यहीं के बच्चे होते हैं. मैं देखना चाहता था कि आखिर वह कैसा विद्यालय है, जहां एक साथ इतने मेधावी बच्चे पढ़ते हैं. जमुई स्टेशन पर साढ़े तीन घंटे के इंतजार और ईएमयू ट्रेन पर सवार होकर करीब डेढ़ घंटे की यात्रा के बाद जब उस स्कूल तक पहुंचा तो पहली बात यही मन में आयी…

Read More

बिहार में किसका गठबंधन मजबूत

पुष्यमित्र लम्बे समय से चल रहे मंथन, संवाद, विवाद और तीखे बयानों के तीर के बाद कल आखिरकार बिहार में महागठबंधन ने आखिरकार सीट शेयरिंग का फार्मूला घोषित कर दिया। हालांकि कौन कहां से लडेगा यह अभी फाइनल नहीं बताया गया है और यह भी तय नहीं है कि अब आगे इस गठबन्धन में झगड़े नहीं होंगे। सीट शेयरिंग से यह भी साफ है कि बड़े भाई राजद ने विचार के बदले जाति को महत्व दिया है, वाम दलों को किनारे कर मांझी, कुशवाहा और मुकेश साहनी जैसे जातिगत सरगनाओं…

Read More

बिहार की वीणा, विभा, नीलम, लेसी, लवली, बीमा, हिना और रंजीता

पुष्यमित्र आज बिहार में महागठबंधन की ओर से सीट शेयरिंग और पहले चरण के उम्मीदवारों की घोषणा हो गयी. इसमें बताया गया कि नवादा से विभा देवी चुनाव लड़ेंगी, वे एनडीए की वीणा सिंह को टक्कर देंगी. खबर यह भी है कि नीलम देवी मुंगेर से चुनाव लड़ेंगी और जदयू के ललन सिंह को मुकाबले में चित करने का प्रयास करेंगी. रंजीता के सुपौल से कांग्रेस के उम्मीदवार होने की संभावना है. हिना सीवान से मैदान में उतरेंगी. लवली भी कहीं न कहीं से टिकट के लिए प्रयासरत हैं और…

Read More

बिहार बढ़ रहा है, बिहारी पिछड़ रहे हैं, यह कैसा ग्रोथ रेट है सुशासन बाबू?

बिहार आगे बढ़ रहा है, लेकिन बिहार पिछड़ रहे हैं. यह हम नहीं कह रहे, बिहार सरकार कह रही है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस साल भी बिहार की वार्षिक वृद्धि दर 11.3 फीसदी रही है. कल सरकार ने इकॉनामिक सर्वे की रिपोर्ट जारी करते हुए यह जानकारी दी और अपनी पीठ थपथपाई. साथ ही यह जानकारी भी मिली कि 2004-05 से 2014-15 के बीच बिहार की चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर भी 10 फीसदी से अधिक रही है. पिछले दस-बारह सालों में सिर्फ 2016-17 ही एक ऐसा साल रहा जब…

Read More

पनिया के जहाज से पलटनिया बनि अइहौ पिया…

खबर आई है कि बिहार की सात बड़ी नदियों को केंद्र सरकार ने अपनी राष्ट्रीय जलमार्ग परियोजना में शामिल कर लिया है. इस परियोजना में जहां देश भर की 111 नदियां हैं, बिहार की गंगा, कोसी, गंडक, घाघरा, सोन, पुनपुन और कर्मनाशा नदी भी है. एक बार यह परियोजना पूरी हो जाये तो फिर इन नदियों में भी पानी के जहाज चलेंगे. गंगा में तो चल भी रहे हैं. बंगाल के हल्दिया से यूपी के इलाहाबाद तक 1620 किमी लंबा राष्ट्रीय जलमार्ग एक है, जिसका बड़ा हिस्सा बिहार में पड़ता…

Read More

न मेढकों की शादी से बारिश होगी, न विभाग का नाम बदलने से

  इन दिनों जब मध्य प्रदेश में मंत्री महोदय मेढ़कों की शादी करवा रहे हैं, ताकि बारिश जल्द हो, बिहार की राजधानी पटना में पूर्वी राज्यों के प्रतिनिधि ग्लोबल वार्मिंग और मौसम पर पड़ने वाले इसके कुप्रभाव की चर्चा करने और इसका समाधान तलाशने के लिए जुटे हैं. यह सरकारों के एप्रोच का फर्क है. एक सरकार का नुमाइंदा अपने आवाम को पुरातनपंथी सोच की तरफ ले जाने की कोशिश में है, तो दूसरी सरकार का मुख्यमंत्री कह रहा है, बिहार में लगातार बारिश कम हो रही है. हम पर्यावरण…

Read More

विशेष दर्जा तो बिहार को चाहिए

इन दिनों विशेष राज्य के मुद्दे पर आंध्र प्रदेश की सरकार केंद्र से नाराज है, वहां के सांसद एकजुट होकर लोक सभा में आंदोलन कर रहे हैं, मगर बिहार की सरकार ने भाजपा से समर्थन लेने के बाद विशेष राज्य की दावेदारी छोड़ दी है और बिहार के सांसद भी इस मसले पर कोई सवाल नहीं कर रहे. इन्हीं मसलों पर प्रसिद्ध अर्थशास्त्री मोहन गुरुस्वामी ने अपने फेसबुक वाल पर यह पोस्ट डाली है और आंकड़ों और ऐतिहासिक परिस्थितियों के जरिये बिहार के विशेष दर्जे की वकालत की है. यह…

Read More