लड़ कर लिया है खेलने का हक, अब बॉल बिहार के क्रिकेट मैनेजरों के कोर्ट में है

बीसीसीआई नहीं चाहती थी कि बिहार के क्रिकेट अपने राज्य के क्रिकेट बोर्ड की तरफ से खेलें. पहले जगमोहन डालमिया ने एसोशियेट मेंबर बनाकर किनारे कर दिया, फिर अदालत में इसी एसोशियेट मेंबर की रट लगाकर बीसीसीआई हमें रणजी खेलने से वंचित करती रही. मगर हमने लड़कर न्याय हासिल किया है. शशांक मुकुट शेखर लिख रहे हैं कि अब गेंद राज्य के क्रिकेट प्रबंधकों के पाले में है कि वे अच्छी व्यवस्था बनायें, अच्छी प्रतिभा को मौके दें, ताकि बिहार के क्रिकेटर देश भर में नाम कमायें… शशांक मुकुट शेखर…

Read More