एक अनोखी बस यात्रा, दो संतोषों का असंतोष और बदले बिहार को देखने आये मामू्#बिदेसियाकीचिट्ठी

निराला बिदेसिया बात थोड़ी पुरानी हो चली है लेकिन जब-तब मानस पटल पर ताजगी के साथ चस्पां हो जाने को बेताब हो जाती है. हम रोहतास जिले के एक बाजार राजपुर से सासाराम पहुंचे. मैं ट्रेन से रांची निकलने के मूड में था. लेकिन साथ में चल रहे मामू ने कहा- बस का आनंद लो बबुआ, मजा आएगा. थोड़ा गाना बजेगा, कुछ देर लाइन होटल पर रूकेंगे, वगैरह-वगैरह. मैं आग्रह करता रहा कि बिना रिजर्वेशन के भी ट्रेन में चलना बस की तुलना में आरामदेह होता है और कुछ हद…

Read More