सलाम कीजिये इन बच्चियों को, इन्होंने अपनी सहेली को बाल विवाह का शिकार होने से बचाया

बिहार कवरेज बाल विवाह को लेकर राज्य सरकार मानव श्रृंखला जैसे तामझाम तो खूब करती है, मगर जमीन पर कोई बच्ची बाल विवाह का शिकार हो रही हो तो उसे बचाने की कोई सटीक व्यवस्था नहीं है. यह बात तब जाहिर हुई जब गया में बाल विवाह का शिकार हो रही एक बच्ची को बचाने के लिए उसकी सहेलियों ने हेल्पलाइन पर फोन किया मगर किसी ने फोन नहीं उठाया. बाद में इन लड़कियों ने खुद थाने जाकर शिकायत की और अपनी सहेली को बाल विवाह का शिकार होने से…

Read More

बाल विवाह रोकने के लिए किशोरियों ने बिहार सरकार को दिये कमाल के टिप्स

पिछले दिनों राजधानी पटना में बिहार के अलग-अलग जिलों की सौ किशोरियां जुटी थीं. दो दिन के कार्यक्रम के दौरान उन्हें कई जानकारियां हासिल कीं, अपने मसलों पर चर्चाएं कीं, मौज-मस्ती कीं और जाते-जाते बिहार सरकार को कई सुझाव देकर गयीं. ये सुझाव उन्होंने राज्य के शिक्षा मंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, समाज कल्याण मंत्री और पंचायत मंत्री को सौंपे हैं. ये ऐसे सुझाव हैं कि अगर सरकार इन पर अमल करे तो बाल-विवाह की समस्या से आसानी से निजात पाया जा सकता है. इनमें कुछ ऐसे सुझाव भी हैं जो किशोरियों…

Read More

पटना में स्वागत कीजिये बाल विवाह के खिलाफ डट खड़ी हुई इन सौ किशोरियों का

ये किशोरियां कल शाम ही अलग-अलग जिलों से बिहार की राजधानी पटना पहुंच गयी हैं. इनकी खासियत है कि ये सभी अपने-अपने इलाकों में बाल विवाह के खिलाफ संघर्ष में जुटी हैं. या तो इन्होंने खुद को बाल विवाह का शिकार होने से बचाया है, या अपनी सहेलियों को. बिहार के पांच जिलों मुजफ्फरपुर, रोहतास, जमुई, शिवहर व पश्चिमी चम्पारण से आयीं ये किशोरियां अपने-अपने गांवों में समूह बनाकर रहती हैं और न सिर्फ बाल विवाह बल्कि किशोरियों के दूसरे अधिकार जैसे पढ़ाई-लिखाई, खेलना, बराबरी का हक आदि के लिए…

Read More

बेटी पढ़ गयी तो दहेज बढ़ जायेगा, तो करा दो जल्दी शादी

तपस्या चौबे बिहार के चंपारण में बचपन गुजारने वाली तपस्या इन दिनों अमेरिका के न्यू जर्सी में रहती हैं और सोशल मीडिया पर बिहार के जीवन को संजीदगी से याद करती हैं. अविनाश द्वारा बाल विवाह पर लिखे गये आलेख के बाद इन्होंने यह पोस्ट लिख कर अपने इलाके में समाज और परिवार की मानसिक स्थिति को अच्छी तरह जाहिर किया है. बिहार में बाल विवाह और दहेज के ख़िलाफ़ आंदोलन चलाए जा रहें हैं. मुझे इसके बारे में ठीक से जानकारी नही कि आंदोलन किस स्तर पर चल रहा…

Read More

यह कैसा कानून- लड़के की शादी 21 में तो लड़कियां 18 में क्यों?

अविनाश उज्जवल अविनाश मीडिया एक्सपर्ट हैं और लंबे समय से सोशल सेक्टर से जुड़े हैं. “मेरी एक बेटी है 4 साल की. जब वो छोटी थी तो मुझे भी हर पिता की तरह यह जिज्ञासा होती थी कि वो कब बोलेंगी, कब चलेगी. इसके जवाब में मेरी दादी ने कहा कि यह 6 महीने में चलने लगेगी, लड़कियां, लड़कों की तुलना में जल्‍दी चलती है, जल्‍दी बड़ी हो जाती हैं. बाद में पता चला कि इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं हैं.” आमतौर पर बच्‍चों की परिभाषा को लेकर लोगों में…

Read More

चंपारण की लड़कियों ने लिखी चिट्ठी ‘बाल विवाह से बचा लीजिये मुख्यमंत्री जी’

पुष्यमित्र पश्चिमी चंपारण के सुखावारी गांव की पांच लड़कियों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को चिट्ठी लिख कर उन्हें बाल विवाह का शिकार होने से बचाने की गुहार लगायी है. पत्र में इन लड़कियों ने लिखा है कि गांव में हाइ स्कूल नहीं होने की वजह से आठवीं के बाद उनकी पढ़ाई बंद हो गयी है और घरवाले शादी के लिए जोर डाल रहे हैं. इन लड़कियों ने गुहार लगायी है कि गांव में एक हाइ स्कूल खुलवा दें ताकि उनकी पढ़ाई जारी रह सके और वे बाल विवाह का शिकार…

Read More