1930 के दशक का एवरेस्ट मिशन, पूर्णिया और एक ऑस्कर अवार्ड विनिंग फिल्म की पूरी कहानी

सुशांत भास्कर हम यह जानते हैं कि 29 मई 1953 को पहली बार माउंट एवरेस्ट पर न्यूजीलैंड के एडमंड हिलेरी और नेपाली मूल के भारतीय नागरिक तेनसिंह नोर्गे शेरपा चढ़े थे. किन्तु आज की पीढ़ी को यह जानकारी नहीं है कि पूर्णिया जिला से 1930 के दशक में माउन्ट एवरेस्ट पर एक हवाई जहाज ने उड़ान भरा था और उसके ऊपर एक फ़िल्म भी बनी थीं जिसे ऑस्कर अवार्ड मिला था. इस उड़ान से एवरेस्ट के शिखर का न केवल पहली बार तस्वीर लिया गया बल्कि दुनिया को एवरेस्ट पर…

Read More

एवरेस्ट के लिये पूर्णिया से उड़ा था पहला विमान और इस पर बनी फिल्म को मिला था ऑस्कर

बासु मित्र आज हमारा जिला अपनी 248 वां स्थापना दिवस मना रहा है. बहुत की कम लोगों को इस बात की जानकारी है कि माउंट एवरेस्ट के लिये 1933 में पहला विमान ने पूर्णिया से उड़ान भरी थी. यह हिमालय  क्षेत्र का पहला विस्तृत और वैज्ञानिक सर्वेक्षण था. और इस पर बनी फिल्म को 1936 में  ऑस्कर अवार्ड से सम्मानित किया गया था. जब भी ऑस्कर की बात आती है तो हम रिचर्ड एडिनबरो  की गांधी, स्लम डॉग मिलेनियर, रसल कुट्टी जैसे नाम को याद कर खुश हो जाते हैं. यह बहुत…

Read More

संतूर दुनिया को कश्मीर का सबसे नायाब तोहफा है- अभय सोपोरी

बासु मित्र कश्मीर के सोपोरी सूफियाना घराना से ताल्लुक रखने वाले मशहूर संतूर वादक अभय रुस्तुम सोपोरी किस परिचय के मुहताज नहीं हैं. स्पीक मैके के प्रोगाम में पहली बार पूर्णिया आये. विद्या विहार इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के सभागार में अभय रुस्तुम सोपोरी ने संतूर और कश्मीर के वर्तमान हालत के साथ-साथ देश के विलुप्त हो रही लोककला पर दिल खोल कर बात की. उन्होंने कहा कि कुछ दशक से बदलते लाइफ स्टाइल के कारण युवा कल्चर से दूर होते जा रहे हैं. देश में आज एडवांस इण्डिया की बात…

Read More

यह कैसी समीक्षा यात्रा- अपने ही घरों में कैद होकर रह गये बेगमपुर वाले

बक्सर की रोड़ेबाजी ने प्रशासनिक महकमे पर ऐसा खौफ डाला है कि सीएम अब जहां समीक्षा यात्रा के लिए पहुंच रहे हैं वहां पहरा इतना सख्त कर दिया जाता है कि लोग अपने ही घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे. ऐसा ही नमूना कल पूर्णिया के बेगमपुर में देखने को मिला. जब तक सीएम गांव में रहे, गांव के हर दरवाजे पर दो-दो पुलिसकर्मी तैनात दिखे. लोग दरवाजा खोलकर झांकते भी थे तो उनसे पूछताछ शुरू हो जाती थी. ग्राम भ्रमण के दौरान भी गांव वालों को सीएम से…

Read More

पूर्णिया में नहीं लगी पंचलैट तो इस शख्स ने करा लिया है पूरा सिनेमा हॉल बुक

कहते हैं, अक्सर छोटे-छोटे शहरों में बड़े-बड़े काम हो जाया करते हैं. यह खबर इसी बात का नमूना है. पिछले दिनों रेणु की कहानी पर बनी फिल्म पंचलैट रिलीज हुई थी. रेणु के पुराने शहर पूर्णिया के लोग अपने लेखक की कहानी पर बनी इस फिल्म को देखना चाहते थे. मगर शहर के किसी हॉल में यह फिल्म रिलीज नहीं हुई. ऐसे में एक दीवाने ने अपने शहर के एक सिनेमा हॉल का एक पूरा शो ही बुक करा लिया है. वह अपने शहर के बुजुर्गों को यह फिल्म मुफ्त…

Read More

कहानी उन देहाती औरतों की जिन्हें नेसडेक्स ने माना वायदा कारोबार का एक्सपर्ट

बासुमित्र सात सितंबर की उस शाम को धमदाहा की लाल देवी और शमशीदा खातून कभी भूल नहीं सकतीं. नई दिल्ली के ताजमहल होटल में उन्हें रामविलास पासवान और अर्जुन मेघवाल जैसे केंद्रीय मंत्री के हाथों पुरस्कृत होने का मौका मिला. और यह अवसर भी एक ऐसे काम के लिए जिसमें अर्थशास्त्र के बड़े-बड़े ज्ञाता दिमाग खपाते रहते हैं. नेशनल कमोडिटी एंड डेरिएटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड (नेसडेक्स) ने इन्हें वायदा कारोबार में इनकी दक्षता और सूझबूझ के लिए कृषि प्रगति पुरस्कार से सम्मानित किया. ये औरतें भले ही बहुत पढ़ी लिखी न हों, मगर खरीद-बिक्री…

Read More