‘लालू बिहार की माटी का लाल है, किसी के अत्याचार से खामोश नहीं होगा’

यह सजा का ऐलान होने के बाद लालू द्वारा जेल से लिखे गए पत्र का सम्पूर्ण टेक्स्ट है. जिसे तेजस्वी ने कार्यकर्ताओं को पढ़ कर सुनाया और बाद में ट्वीट किया. मेरे प्रिय बिहारवासियों, आप सबों के नाम ये पत्र लिख रहा हूँ और याद कर रहा हूँ अन्याय और ग़ैर बराबरी के खिलाफ अपने लम्बे सफ़र को, हासिल हुए मंजिलों को और ये भी सोच रहा हूँ कि अपने दलित पिछड़े और अत्यंत पिछड़े जनों के बाकी बचे अधिकारों की लड़ाई को. बचपन से ही चुनौतीपूर्ण और संघर्ष से…

Read More