देखिये पटना पुस्तक मेला की यह मजेदार वीडियो रिपोर्ट

पटना पुस्तक मेला बीत चुका है. इस मेले को लेकर कई रिपोर्ट लिखे गये हैं. मगर ज्यादातर रिपोर्ट बुक लांचिंग और साहित्यिक गतिविधियों को केंद्र में रख कर लिखे गये हैं. इस बीच हमारे साथी अजय कुमार ने एक अलग किस्म की वीडियो रिपोर्ट तैयार की है. जो मजेदार भी है और आम लोगों को ध्यान में रख कर बनायी गयी है. आप भी देखें और आनंद लें…  

Read More

क्या पुरस्कारों की योग्यता मठाधीशों की चाटुकारिता भर होती है? #पटनापुस्तकमेला

Shashank Mukut Shekhar ने पटना पुस्तक मेला में बंटे पुरस्कारों पर कुछ तीखे सवाल किये हैं. हालांकि हम बहुत आश्वस्त नहीं हैं कि ये आरोप सही हैं या गलत. मगर एक युवक के सवालों को सार्वजनिक पटल पर आना चाहिए इसलिए उनकी बातों को हमने जगह दी है. अगर कोई पक्ष इससे असहमत है तो वह भी हमें अपना पक्ष भेजे हम उसे भी जगह देंगे. हमारा ई-मेल है, biharcoverez@gmail.com फिलहाल उनकी यह टिप्पणी पढ़ी जाये. शशांक मुकुट शेखर मैंने पहले भी पटना पुस्तक मेला के इस संस्करण की खामियां…

Read More

तीन पत्रकार, तीन किताबें, तीनों में बिहार की अलग-अलग कहानियां

पटना बुक फेयर का आखिरी रविवार. आज बिहार के तीन पत्रकारों की किताबें एक साथ एक मंच पर रिलीज होगी. ये तीनों किताबें बिहार की अलग-अलग कहानियां लेकर आ रही हैं. तीनों का लोकापर्ण एक ही मंच से होगा, जिस पर दो वरिष्ठ कवि और एक इतिहास लेखक भी मौजूद रहेंगे. कार्यक्रम दोपहर एक बजे से दो बजे तक चलेगा. पुस्तक मेला के आखिरी रविवार को यह संयोग हिंदी के सबसे प्रतिष्ठित प्रकाशक राजकमल प्रकाशन की वजह से बना है. वे इस मेले में बिहार के तीन पत्रकारों की किताब…

Read More

“अजीमाबाद” में आज लॉंच हो रहा है गीताश्री का पहला नॉवेल “हसीनाबाद”

जानी-मानी लेखिका गीताश्री का पहला नॉवेल हसीनाबाद आज पटना पुस्तक मेला में लॉंच हो रहा है. दोपहर साढ़े तीन बजे से पुस्तक विमोचन कार्यक्रम है. यह विमोचन हिंदी-मैथिली की सुपरिचित कथाकार उषाकिरण खान, वरिष्ठ कथाकार हृषिकेश सुलभ और अवधेश प्रीत के हाथों होगा. लॉंचिंग से पहले ही हसीनाबाद की अच्छी समीक्षाएं आ रही हैं. दिलचस्प है कि गीता श्री की दो और किताबें पटना पुस्तक मेला से ही लॉंच हुई हैं. उन्होंने इस बात को अपने इस फेसबुक पोस्ट में बड़ी शिद्दत से याद किया है. हसीन संयोग मेरा पहला…

Read More

पुस्तक मेला आयोजकों ने बाल साहित्य की चर्चा से बचपन को ही ‘गायब’ कर दिया

शशांक मुकुट शेखर 10 दिवसीय पटना पुस्तक मेला का औचित्य हर बीतते दिन के साथ घटता जा रहा है. आयोजकों की लापरवाही से हर दिन कुछ न कुछ गड़बड़ियां हो रही हैं और लोग निराश होकर लौट रहे हैं. ऐसे में अगले साल अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक मेला होने की बात बिहार के साहित्य जगत का सबसे बड़ा मजाक लगता है. इसी बीच सोमवार को खबर मिली कि पुस्तक मेले में हिंदी के प्रसिद्द कवि श्री केदारनाथ सिंह से हिंदी के एक और प्रसिद्द कवि श्री अरुण कमल बातचीत करने वाले हैं.…

Read More

फोटो स्टोरी-यह क्या सचमुच पुस्तक मेला ही है?

इस बार के पटना पुस्तकमेला को नया और आधुनिक भले बताया जाए मगर यह कुल मिलाकर अजीब है. एक तो यह खुले मैदान से उठ कर भवन में चला गया यह तो लोगों को पहले ही अखर रहा है. मगर गौर से घूमेंगे तो पता चलेगा इसमें और भी कई गड़बड़ियां हैं. आपको किताबों की दुकानें बहुत कम नजर आएंगी. आपको आधी से अधिक दुकानें प्रचार वाली और दूसरी सामग्रियां बेचने वाली नजर आएंगी. एक पूरी कतार बिहार सरकार के विभिन्न विभागों की है. जिसमें सबसे प्रमुख मद्यनिषेद विभाग है.…

Read More

झारखंड के मंत्री की बिहार की अर्थव्यवस्था पर किताब, आज पटना में होगी लॉंच

आज से पटना पुस्तक मेले की शुरुआत हो रही है. इसे पटना पुस्तक मेला, 2017 भी नहीं कह सकते हैं, क्योंकि यह साल की शुरुआत में लग चुका है. हां, पटना पुस्तक मेला, 2017 पार्ट-2 कह सकते हैं. बिहार सरकार के सहयोग से आज शुरू हो रहे इस पुस्तक मेले में झारखंड के एक मंत्री की लिखी किताब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथों लॉंच हो रही है. उद्घाटन समारोह में. इस समारोह में मुख्य अतिथि हिंदी-मैथिली की लेखिका उषा किरण खान होंगी. समय का लेख. जी हां, यही नाम है…

Read More

‘नई वाली हिंदी’ इस बार भी नहीं आयेगी पटना

कल से पटना के ज्ञान भवन में पटना पुस्तक मेला की शुरुआत हो रही है. इस मेले को लेकर कई तरह की खबरें कही जा रही है. एक तरफ पहली बार बिहार सरकार इस मेले में साझीदार बना है. फिर अगले साल से इंटरनेशनल होने की भी बात है. तो दूसरी तरफ मेले का धूप से सरकारी ज्ञान भवन की छांव में चला जाना आम पाठकों को अखर रहा है और स्टॉल कम होने की भी बातें हैं. मगर पटना के साहित्य पाठकों के लिए इस बार भी वही निराश…

Read More

पटना पुस्तक मेला-‘ज्ञान’ को ‘भवन’ में नजरबंद करने की तैयारी

शशांक मुकुट शेखर खुला आसमान स्वछंदता का प्रतीक है और बंद दरवाजे बेशक गुलामी को दर्शाते हैं. और जब बात महिला सशक्तिकरण की करें तो आजादी के प्रतीकों का इस्तेमाल करना बेहद आवश्यक होता है. आगामी 2 दिसंबर से पटना में पुस्तक मेले का आयोजन किया जा रहा है. थीम रखा गया है ‘नारी सशक्तीकरण.’ पुस्तक मेले के सभी आयोजन में महिलाओं की भरपूर भागीदारी होने वाली है. पर महिलाओं के सशक्तिकरण पर आधारित पुस्तक मेले का गाँधी मैदान के खुले परिसर से ज्ञान भवन के बंद कमरों में शिफ्ट…

Read More

इंटरनेशनल होने की डगर पर पटना पुस्तक मेला, इस बार महिलाओं का रहेगा राज

सत्यम कुमार झा इस बार का पुस्तक मेला एक अभ्यास है, व्यवस्थापक तैयारी कर रहे हैं, क्योंकि 25 वां पुस्तक मेला जो अगले साल लगेगा अन्तराष्ट्रीय होने वाला है. मुझे वैसे ही याद है कि इसी साल फरवरी में हुए पुस्तक मेला में माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आश्वासन दिया था कि अब पटना में अंतराष्ट्रीय पुस्तक मेला लगेगा. इसके लक्षण दिखने लगे है. इस बार खुद बिहार सरकार पुस्तक मेला में सहभागिता निभा रही है. संभवतः इसी वजह से इस बार का पुस्तक मेला गांधी मैदान से हटकर ज्ञान…

Read More