नथुने में गोबर की गंध जाते ही याद आता है, अरे आज तो कोई त्योहार है

मिथिलेश कुमार राय गोबर का जिस अर्थ में प्रयोग गुड़ के साथ होता है या गणेश के साथ, गांव में यह वैसा ही नहीं रह जाता है. गुड़ अपनी जगह ठीक है और गनेश तो हैं ही. लेकिन यहां गोबर भी इससे कम महत्व का नहीं होता. विश्वास न होता हो तो त्योहार के दिनों में बगल के किसी गांव में घूम आइए. गोबर के वैसे तो बहुत से काम होते हैं. जैसे इसका उपले थोप लीजिये. इसे सड़ा कर खाद बना लीजिए. गोब गैस की परिकल्पना तो है ही.…

Read More

बिहार में अब गांवों में भी लोग चंदा करके सीसीटीवी कैमरा लगवाने लगे हैं

इन दिनों न सिर्फ शहरी बल्कि बिहार के ग्रामीण इलाकों से भी चोरी और अपराध से जुड़ी खबरें खूब आ रही हैं. बताया जा रहा है कि पुलिस प्रशासन की पूरी ताकत शराबबंदी सफल कराने जैसे काम में लगी है, जिससे दूसरे अपराध लगातार बढ़ रहे हैं और लोग परेशान हैं. ऐसे में बिहार के एक गांव के युवकों ने गांव में क्राइम कंट्रोल करने के लिए डिजिटल तकनीक को अपनाया है. उन लोगों ने पूरे गांव में जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगवा लिये हैं. आइये जानते हैं उस गांव की…

Read More

यहां वनभोज के लिए जमा किये जा रहे हैं दस-दस के नोट

सांकेतिक तसवीर मिथिलेश कुमार राय पहली जनवरी अब बिलकुल पास आ गयी है तो लोग इसके बारे में तरह-तरह की योजना बनाने में दिमाग के घोड़े दौड़ाने लगे हैं. हालाँकि हद से ज्यादा व्यस्त हो चुके जीवन में अब रोजमर्रा के रूटीन को तोड़ने और कुछ अलग करने की भावना वैसी नहीं रह गई है. लेकिन पहली जनवरी की बात ही कुछ और है. यह सुबह की अच्छी शुरुआत की तरह ही अब भी महत्वपूर्ण माना जाता है. सभी लोग चाहते हैं कि वर्ष का पहला दिन खुशी-खुशी इस तरह…

Read More