आजाद भारत में सबसे लंबे समय तक चले दंगे की कहानी

निराला   बीते 24 अक्तूबर को भागलपुर में अजीब किस्म का माहौल था. शहर की चहल-पहल वैसी ही थी. नयी पीढ़ी उसी तरह भागदौड़ में व्यस्त. भागलपुर से ही सटे नाथनगर और चंपानगर में हैंडलूम और पावरलूम के करघे भी उसी तरह हर रोज की तरह अहलेसुबह से ही खट-खट कर शुरू हो गये थे. मंदिरों की घंटियां भी सुबह से बज रही थी, मस्जिदों में अजान भी हुआ. लेकिन बड़ी आबादी वाले शहर के कुछ कोने ऐसे थे, जहां एक अजीब किस्म की उदासी का माहौल था. कुछ नये…

Read More