तो क्या जाम में फंस कर दो मरीजों की मौत नहीं हुई? तेजस्वी तो यही कह रहे हैं…

P.M.

कल से यह खबर जगह-जगह चल रही है कि राजद के चक्का-जाम की वजह से दो मरीजों की मौत हो गयी. उनकी एम्बुलेंस जाम में फंसी थी. इमरजेंसी थी, उन्हें रास्ता नहीं मिला. इनमें से एक मरीज वैशाली का तो दूसरा कटिहार का बताया जा रहा है. अब बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री राजद नेता तेजस्वी यादव ने फेसबुक पर पोस्ट लिख कर बताया है कि यह खबर झूठी है. उनका कहना है कि उक्त महिला पटना के अस्पताल में इलाजरत थी. वहां ही उसकी मृत्यु हो गयी. जिस एंबुलेंस को जाम में फंसा बताया जा रहा है, उसमें उसका शव था. तेजस्वी ने वीडियो भी शेयर किया है, जिसमें उन्होंने दिखाया है कि एंबुलेंस पटना से लौट रहा था.

हालांकि इन सुबूतों से उनका दावा कितना सच साबित होता है, कहना मुश्किल है. इस पूरे मामले को समझने के लिए कटिहार और वैशाली में छपी इन दोनों मौतों की खबरों को पढ़िये. खबरें प्रभात खबर की हैं.

पहली रिपोर्ट कटिहार से, जिसमें बताया गया है कि ठंड लगने से कोढ़ा अंचल के प्रधान सहायक की स्थिति गंभीर हो गयी थी. वे इलाज के लिए एंबुलेंस पर निकले थे. रास्ते में चक्का जाम में फंसने से उनकी मौत हो गयी.

दूसरी रिपोर्ट वैशाली की है. जिसमें वृद्धा की मौत की खबर है. तेजस्वी ने इस मौत का खंडन किया है.

और तेजस्वी ने जिस अस्पताल का प्रिस्क्रिप्शन जारी किया है, वह यह है.

राजद नेता शिवानंद तिवारी ने भी फेसबुक पर लिखा है कि दोनों जिलों में इन मौतों के बारे में कोई एफआइआर दर्ज नहीं कराया है. एसपी के बयान वाली एक रिपोर्ट भी उन्होंने साझा की है.

इन तमाम तथ्यों को देखकर आप ही फैसला कीजिये कि सच क्या है…

Spread the love

Related posts