पत्नी और तीन बेटियों कर रही थी उसका इंतज़ार मालदा

कल राजस्थान के राजसमन्द में 50 साल के एक अधेड़ को मार डाला गया. उस पर इल्जाम था लव जिहाद करने का. 50 साल के इस अधेड़ ने राजसमन्द में न जाने किस हिन्दू युवती या महिला को अपने प्रेम जाल में फंसाया होगा मगर पश्चिम बंगाल के मालदा में उसकी बीवी और तीन बेटियां इस इंतजार में थीं कि वह राजस्थान से कमा कर कुछ पैसे लाएगा जिससे घर में खुशहाली आएगी.

वैसे तो खुशियों के लिये तरस रही इस दुनिया में प्रेम किसी को भी पसंद नहीं. उस बाप को भी नहीं जिसने चार रोज पहले अपनी बेटी का गला घोंट दिया था. कहानी बिहार की है. मगर कल जो कुछ हुआ उसका मकसद सिर्फ प्रेम का गला घोटना नहीं था, मकसद दुनिया को मैसेज देना था कि हम कत्ल भी कर सकते हैं. हम तुम्हारे लव जेहाद को बर्दाश्त नहीं करेंगे.

हालांकि यहां सवाल सिर्फ उस अधेड़ का नहीं है जिसे मुहब्बत करने के इल्जाम में सरे आम काट कर जला डाला गया. सवाल उन चार औरतों का है जो उस पर आश्रित थी. जिन्हें आज भी उस मर्द की बेगुनाही का पक्का यकीन है. उन औरतों के जीवन से प्रेम छीन लेने के अपराध की सजा क्या होगी.

Spread the love

Related posts