मराठाओं ने अछूत मानकर सेना में जगह नहीं दी, महारों ने लड़कर अपनी ताकत दिखा दी

कोरेगांव शौर्य दिवस पर बड़ा कंफ्यूजन है, कुछ लोगों को लग रहा है कि दलित इस मुद्दे पर मराठाओं पर विदेशी ताकतों की जीत का जश्न मना रहे हैं, यह कैसा जश्न है. मगर भीमा कोरेगांव की कहानी बिल्कुल अलहदा है. यह अंगरेजों की जीत का जश्न नहीं, उन पांच सौ महार दलित सैनिकों की शौर्य की गाथा है, जिन्हें जातीय दर्प में मराठाओं ने अपनी सेना में जगह नहीं दी थी. संजय तिवारी जी ने विस्तार से लिखा है… संजय तिवारी पुणे महाराष्ट्र की सांस्कृतिक राजधानी कही जाती है.…

Read More

एक ‘हींग की थैली’ की वजह से मिली थी लालू को पहली सजा

बिहार कवरेज आज चारा घोटाला की एक दूसरे मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को सजा का ऐलान होना है, मगर क्या आप जानते हैं कि लालू को पहली सजा हींग की वजह से मिली थी. वही हींग जो दाल और आलू-गोभी जैसी सब्जियों में खास तौर पर इस्तेमाल होता है. उसी हींग की वजह से किशोर लालू को उनके अपने गांव फुलवरिया से बेदखल करने का फैसला सुना दिया गया था. और यह फैसला कोई और नहीं उनकी मां मरछिया देवी ने सुनाया था. यह 1950 के दशक…

Read More

जिसने देश को मनमोहन, मिथिला को रेल, रेलवे को मिथिला पेंटिंग और कोसी को तटबंध दिया

आज ‘कोसी बाबू’ ललित नारायण मिश्र की पुण्यतिथि है. अपने जाने के 43 साल बाद भी वे मिथिलांचल के सबसे पापुलर नेता माने जाते हैं. इंदिरा गांधी के दौर में देश की मेनस्ट्रीम राजनीति में उनका बड़ा दखल था. कई लोग उन्हें राजनीति का चाणक्य और संजय गांधी का राजनीतिक गुरु तक बताते रहे हैं. अब यह सब लोग जानते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रतिभा को पहचानने और आगे बढ़ाने वाले वही व्यक्ति थे. बहरहाल मिथिलांचल का समाज आज भी उन्हें विकास पुरुष के तौर पर देखता…

Read More

मुंगेर में चरण सिंह ने कहा था ‘भैंस बेचकर नोमिनेशन किया है, रामदेव को जिता देना’

जयन्त जिज्ञासु आज किसानों के हमदर्द चौधरी चरण सिंह (23.12.1902 – 29.05.87) का 115वां जन्मदिन है. वे भारत के 5वें प्रधानमंत्री (28.07.79 – 14.01.80) थे. इसके पहले वे थोड़े-थोड़े वक़्त के लिए दो बार उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री (3.4.67 – 25.2.68,  & 18.2.70 – 1.10.70) और मोरारजी के मंत्रिमंडल में हिन्दुस्तान के गृहमंत्री, वित्तमंत्री और उपप्रधानमंत्री रहे. चौधरी साहब और दो बार भारत के उपप्रधानमंत्री रहे ताऊ देवीलाल, दो ऐसे किसान नेता हुए जिनकी जनता के बीच ज़बरदस्त पैठ थी. यह किसानों की ही ताक़त थी कि चौधरी साहब और ताऊ…

Read More

आज क्यों नहीं मनाते गुरु गोबिंद सिंह की जयंती? #शुकरानासमारोह

पुष्यमित्र वैसे तो गुरु गोबिन्द सिंह का 351वां जन्मदिन आज ही है, रोमन कैलंडर के मुताबिक उनका जन्म 22 दिसंबर 1666 को पटना साहिब में हुआ था. आप विकिपीडिया की शरण में जायेंगे तो वह भी यही बतायेगा. मगर 351 साल पहले अपने देश में रोमन कैलंडर को मानता ही कौन था. सो गुरु गोविन्द सिंह का जन्म पहले हिन्दू तिथि के मुताबिक पौष सप्तमी शुक्ल पक्ष को मनाया जाता रहा है, जो इस साल के 25 दिसंबर को पड़ता है. हालांकि नानकशाही कैलंडर के मुताबिक सिखों ने गुरु गोबिंद…

Read More

अंगरेज कमिश्नर को अपना कुत्ता नहीं दिया, मगर गांधी ने कहा तो सिगार पीना छोड़ दिया

पुष्यमित्र अगर आप बिहार के रहने वाले हैं तो आपने पटना के सदाकत आश्रम का नाम जरूर सुना होगा. 1921 में इस आश्रम की स्थापना महात्मा गांधी के हाथों से हुई थी, फिर यह आजादी के दीवानों की गतिविधियों का केंद्र रहा. राजेंद्र बाबू जब राष्ट्रपति पद से सेवानिवृत्त हुए तो उन्होंने इसी सदाकत आश्रम को अपना ठिकाना बनाया और आखिर वक्त यहीं गुजारा. आजादी के बाद से यह आश्रम कांग्रेस पार्टी का मुख्यालय रहा है. मगर क्या आपने कभी सोचा कि इसका नाम सदाकत क्यों पड़ा और सदाकत का…

Read More

जानिये उस आचार्य को जिसने नचनिया-बजनिया ‘भिखारी’ को सबसे पहले लोकनायक कहा

आज भिखारी ठाकुर की जयंती है. इस बार की जयंती खास वर्ष में है. भिखारी ठाकुर के नाच के सौ साल पूरे हुए हैं. उनकी रंगयात्रा का शताब्दी वर्ष है. अब भिखारी को रंगकर्म, गीतकारी, महान रचनाकार, समाजसुधारक, अपने समय के सवालों से मुठभेड़ करनेवाले नायक के रूप में रखकर आकलन किया जा रहा है. लेकिन जब वे थे, तब ऐसी स्थिति नहीं थी. तब ऐसे कर्म करनेवाले को महज नचनिया-बजनिया-लौंडा ही कहा जाता था. उस समय सबसे पहले एक व्यक्ति खड़ा हुआ था जो हिंदी साहित्य की दुनिया में…

Read More

क्यों नहीं करते आज के दिन विवाह, नहीं रखते आम्रपाली नाम?

आज विवाह पंचमी है… अर्थात् श्रीराम और जानकी (सीताजी) के विवाह का पावन दिन… लेकिन कुसंयोग देखिए जानकी के ‘मिथिला’ सहित देश के विभिन्न भागों में आज के दिन लोग विवाह नहीं करते हैं…. लोगों का सीधा सीधा मानना है कि जब आज के दिन विवाह होने से सीताजी को जीवनपर्यंन्त कष्टों का सामना करना पड़ा तो हम क्यों उस दिन विवाह जैसा शुभ विधान संपन्न करें… यानी निज भजिए सीता-राम लेकिन नहीं चाहिए जीवन तेरे जैसा मुझकों सीता-राम’ हालांकि मैं ऐसे तीन लोगों से परिचित हूं जिनका विवाह ‘विवाह…

Read More

जिस स्कूल की गांधी ने स्थापना की उसे कुछ इस तरह जिंदा रखा भितिहरवा वालों ने

इतिहास गवाह है कि जिस-जिस प्रयोग से गांधी का नाम जुड़ा है, वहां आदर्श, इमानदारी और त्याग की भावना भी जुड़ती चली गयी. पश्चिमी चम्पारण के भितिहरवा में गांधी द्वारा खोले गये आश्रम और विद्यालय की भी कुछ ऐसी ही दास्तां हैं. गांधी की अपील पर एक स्थानीय मठ ने स्कूल के लिए जमीन दी. कस्तूरबा के नेतृत्व में वहां छह माह तक शिक्षा दान चला. फिर स्थानीय लोगों ने विद्यालय की कमान संभाल ली. एक जगह दिक्कत हुई तो दूसरी जगह और फिर तीसरी जगह जमीन दी गयी ताकि…

Read More

विद्यापति गीतों को राग-बद्ध करने वाले मांगैन गवैया, जिनके ठुमरी-खयाल का देश दीवाना था

सहरसा जिला मुख्यालय से तकरीबन 20 किमी दूर है पंचगछिया गांव. हम उस गांव एक ऐसे शास्त्रीय गायक की विरासत को देखने गये थे जिन्हें विद्यापति गीतों को रागबद्ध करने का श्रेय जाता है. उनकी ठुमरी और खयाल गायकी के दीवाने फैयाज खां, पं. ओंकारनाथ ठाकुर, विनायक राव पटवर्धन और अख्तरीबाई फैजाबादी जैसे गायक थे. रामचतुर मल्लिक उन्हें मधुकंठ गायक कहा करते थे. रोचक बात यह है कि वे महज एक घरेलू नौकर थे और पछगछिया रियासत में बरतन मांजा करते थे. कहते हैं, पंचगछिया रियासत के मालिक रायबहादुर लक्ष्मीनारायण…

Read More