धरती के संरक्षण को प्रेरित करती है ‘धरती कहे पुकार के’

शनिवार 24 मार्च को अर्थ आवर और चैत्र नवरात्र के अवसर पर अनंता एचडी एंटरटेनमेंट और माँ वैष्णवी रानी फिल्म्स के बैनर तले निर्मित फिल्म ‘धरती कहे पुकार के’ को रिलीज कर दिया गया. इस फिल्म का निर्देशन पूजा कुमारी ने किया है. चैत्र नवरात्र के अवसर पर रिलीज इस पूरी फिल्म में महिलाओं की ही सशक्त भूमिका रही है. साथ ही अर्थ आवर के अवसर पर इस फिल्म के रिलीज द्वारा लोगों को अपनी सभ्यता और संस्कृति को सहेजने और धरती के संरक्षण के लिए प्रेरित करने का सन्देश…

Read More

उस फकीर उस्ताद की याद में

निराला बिदेसिया सवाल-‘‘कुछ गाते हो?’’ जवाब- नहीं उस्ताद. सवाल- कोई साज बजाने का सउर है? जवाब- ना उस्ताद. पहले थोड़ा मुंह बिचकाये. मेरे चेहरे पर निराशा के भाव छा गये. अगले ही पल वे बच्चों जैसा खिलखिलाते हुए मेरे पीठ पर हाथ फेरते हुए कहने लगे- एका मतलब ई हुआ कि एकदम बेसुरे हो तुम. तब फिर का बात करोगे संगीत पर मुझसे! फिर अगला सवाल—अच्छा ई बताओ कि गीत—संगीत पर कुछ जानते भी हो? मेरा जवाब होता है— रुचि है कला में, गीत—संगीत में, अनुरागी हूं कला का. ठहाका…

Read More

प्रेम को मजबूती और मुक्ति का मार्ग बनाते हुए पीढ़ियों से स्त्री के मन में दबी इच्छा—आकांक्षा को स्वर देनेवाला पुरबियाउस्ताद

16 मार्च को महेंदर मिसिर की जयंती पर विशेष चंदन तिवारी आज महेंदर मिसिर की जयंती है. पुरबी इलाके के अदभुत और अपने तरीके के अनोखे रचनाकार थे वे. महेंदर मिसिर के एकाध गीतों को करीब दस—बारह सालों से छिटपुट गाती रही थी, बाद में जब पुरबियातान सीरिज की शुरुआत की तो उनके ही गीतों से की. अब तक करीब 16 अलग—अलग गीत गायी. जैसे—जैसे एक—एक कर उनके गीत गाती रही, उनके गीतों की दुनिया से गुजरती रही, उनके गीतों में और उनके व्यक्तित्व में और रुचि बढ़ती गयी. रामनाथ…

Read More

इस कोकिला की कूक अब भी बिहार के लोकमानस में गहराई से रची-बसी है

पांच मार्च को पद्मश्री विंध्यवासिनी देवी की जयंती पर पढिये यह विशेष आलेख निराला बिदेसिया सप्ताह दिन पहले हार्डडिस्क गुम हो गया है. इस तनाव से दो दिनों तक गुजरने के बाद अब सामान्य होने में लगा हुआ था कि आज सुबह से ही एकदम से मन उसमें अटक-सा गया है. उस हार्डडिस्क में विंध्यवासिनी देवी से 12 साल पहले 18 फरवरी 2006 को हुई दो घंटे की बातचीत का आडियो था. मन उस दिन की ही मुलाकात में अटका हुआ है. वहीं फंसा हुआ है. उस दोपहरी अपने भाई…

Read More

टिकुली आर्ट से सजेगा राजेंद्र नगर टर्मिनल, आइये जानते हैं इस खूबसूरत चित्रकला की कहानी

आज दैनिक भास्कर अखबार के पन्ने पर यह खबर दिखी कि राजेंद्र नगर स्टेशन को टिकुली आर्ट से सजाया जायेगा. मधुबनी स्टेशन से शुरू हुई अपने स्टेशनों को स्थानीय चित्रकला से सजाने की परंपरा का यह विस्तार सुखद है. टिकुली कला का जन्म पटना के आसपास के इलाके में ही हुआ है, लिहाजा इसका राजेंद्र नगर स्टेशन की दीवारों पर उतरना न सिर्फ स्टेशन को खूबसूरत बनायेगा, बल्कि इसे एक स्थानीय पहचान भी देगा. मगर क्या आप टिकुली चित्रकला और इसकी खूबियों के बारे में जानते हैं? अगर नहीं तो…

Read More

संतूर दुनिया को कश्मीर का सबसे नायाब तोहफा है- अभय सोपोरी

बासु मित्र कश्मीर के सोपोरी सूफियाना घराना से ताल्लुक रखने वाले मशहूर संतूर वादक अभय रुस्तुम सोपोरी किस परिचय के मुहताज नहीं हैं. स्पीक मैके के प्रोगाम में पहली बार पूर्णिया आये. विद्या विहार इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के सभागार में अभय रुस्तुम सोपोरी ने संतूर और कश्मीर के वर्तमान हालत के साथ-साथ देश के विलुप्त हो रही लोककला पर दिल खोल कर बात की. उन्होंने कहा कि कुछ दशक से बदलते लाइफ स्टाइल के कारण युवा कल्चर से दूर होते जा रहे हैं. देश में आज एडवांस इण्डिया की बात…

Read More

‘मुक्काबाज’ हमारे समाज में चल रही अनेक सच्चाइयों का कहन है

  उज्ज्वल कुमार अनुराग कश्यप की मुक्कबाज़. फ़िल्म हमारे समाज मे चल रहे अनेक सच्चाइयों का कहन है. फ़िल्म में मुख्य किरदार में जिमी शेरगिल, विनीत कुमार सिंह और जोया हुसैन है. तीनों ने बहुत ही सराहनीय और जीवंत भूमिका निभाई है. अपने जीवन के उद्देश्यों को पूरा करने के जुनून में श्रवण सिंह (विनीत कुमार सिंह), दबंग नेता भगवान दास मिश्रा (जिमी शेरगिल) के शोषण के खिलाफ एक छोटी सी आवाज़ उठता है. भगवान दास मिश्रा अपने दबंगीयत से और खेल चयन समीति के उच्च पद का गलत फायदा उठा…

Read More

सिलीगुड़ी के एंबुलेंस दादा की लाइफ पर बायोपिक बनायेगा राजश्री प्रोडक्शन

बिहार कवरेज लगता है बायोपिक को फिल्मी दुनिया में सफलता की गारंटी मान लिया है. औऱ अब यह दौर खिलाड़ियों से आगे बढ़कर सोशल वर्करों तक पहुंच गया है. पैडमैन अरुणाचलम मुरुगानाथम के बाद अब सिलीगुड़ी के एंबुलेंस दादा करीमुल पर बायोपिक बनाने की बात हो रही है. और यह बायोपिक कोई और नहीं राजश्री प्रोडक्शन बना रहा है. यह जानकारी खुद एंबुलेंस दादा करीमुल ने मीडिया को दी है. करीमुल ने बताया कि कुछ रोज पहले राजश्री प्रोडक्शन के लोग उनसे मिलने उनके घर आये थे, जहां उनलोगों ने…

Read More

मॉस्को नाइट : वरजिन्स मेन्स क्लब जहाँ लोग ऑर्गेज्म ख़रीदते हैं

बकर पुराण के लेखक अजीत भारती अपने मित्र धैर्यकांत के साथ इन दिनों रूस की यात्रा पर हैं और सोशल मीडिया पर वे लगातार वहां की दुनिया के बारे में लिख रहे हैं. उनका यह पीस वरजिन्स मेंस क्लब के बारे में है. यूरोप के कई मुल्कों में न्यूड और सेमीन्यूड डांस क्लबों की मौजूदगी बहुत आम-फहम बात है, उन्हें कानूनी इजाजत भी है. हालांकि अपने यहां सोनपुर मेला में भी थियेटरों में होने वाले डांस प्रशासन की आंख में धूल झोंक कर अक्सर सेमी न्यूड और न्यूड हो जाया…

Read More

‘वह फिल्म जिसने तमिल राजनीति को फिल्मी बना दिया’

तमिल फिल्म के इस वक्त के मेगा सुपर स्टार रजनीकांत ने अपनी अलग राजनीतिक पार्टी बनाने की घोषणा की है. और इस बात में किसी को भी आश्चर्य नहीं होगा अगर उनकी पार्टी वहां की राजनीति में जड़ जमा ले या पहले ही दांव में सत्ता पर काबिज हो जाये. क्योंकि तमिलनाडु राज्य में आज उनकी हैसियत किसी ईश्वर से कम नहीं. लोग उनके नाम पर जान देने के लिए तैयार रहते हैं. रजनीकांत ऐसे पहले सिने सितारे नहीं हैं जिनको लेकर दक्षिण भारत में ऐसा जुनून हो. उनसे पहले…

Read More