चुनाव डायरी- इन लौचा घाटों की किस्मत कब बदलेगी

पुष्यमित्र किशनगंज शहर से टेढ़ागाछ प्रखंड की तरफ जाना था. दोस्तों ने मुझे दो रास्ते बताये. पहले रास्ते से 100 किमी की दूरी तय करनी थी, दूसरे रास्ते से 50-55 किमी. मगर साथ में उन्होंने यह भी कहा कि 50-55 किमी वाले रास्ते में एक चचरी पुल है और रास्ता कई जगह गड़बड़ है. यानी सड़कें खस्ताहाल हैं. उन्होंने कहा कि अगर आरामदेह सफर करना है तो 100 किमी वाले रास्ते से जाओ. अगर टेढ़ागाछ के दर्द को समझना है तो लौचा घाट के रास्ते से जाना. जाहिर सी बात…

Read More

चुनाव डायरी-तो सीमांचल बन जाता बिहार का टी-हब

पुष्यमित्र कई साल पहले टी बोर्ड ने बिहार के सीमांचल के कुछ जिलों में सर्वेक्षण किया था और अपनी रिपोर्ट में कहा था कि किशनगंज जिले के पांच प्रखंड और अररिया-पूर्णिया जिले के कुछ इलाकों में चाय की खेती आराम से हो सकती है. हालांकि उससे पहले ही किशनगंज जिले के कुछ इलाके में चाय की खेती शुरू हो चुकी थी. उस वक्त ऐसा लगा था कि बहुत जल्द यह इलाका अपने चाय बगानों की वजह से असम और दार्जिलिंग की तरह मशहूर हो जायेगा और तकरीबन सालों भर रोजगार…

Read More

ये दाग तो वाकई अच्छे हैं, मुझे अबू फरहान छोटू की याद दिलाते हैं

पुष्यमित्र इन दिनों सर्फ एक्सेल का नया विज्ञापन कट्टर हिंदुवादियों के निशाने पर है, क्योंकि उस विज्ञापन में दिखाया गया है कि एक मुसलिम बच्चे को उसके सफेद कपड़ों में मसजिद तक पहुंचाने के लिए एक हिंदू बच्ची अकेले मुहल्ले के बच्चों के सारे रंग झेल लेती है. होली के त्योहार के मौके पर जारी इस विज्ञापन के जरिये सर्फ एक्सेल ब्रांड को संचालित करने वाली कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर ने सांप्रदायिक सौहार्द्र वाले विज्ञापनों की सीरीज जारी की है. हालांकि उसे इस बात का बखूबी विश्वास होगा कि आज की…

Read More

ममता दीदी के बंगाल में लॉटरी एडिक्शन क्यों नहीं बनता चुनावी मुद्दा

पुष्यमित्र ममता दीदी के बंगाल में जिस चीज ने सबसे पहले मेरा ध्यान खींचा, वह थी लॉटरी. जिस किसी बाजार से होकर मैं गुजर रहा था, हर दस कदम पर एक लॉटरी का स्टॉल नजर आ जाता. और किसी भी स्टॉल पर चाहे वह बेंच पर ही टिकट रख कर क्यों न बेच रहा हो, चार लोग खड़े जरूर दिख रहे थे. अब चुकि मैं जिस इलाके से हूं, वहां के लिए यह दृश्य अकल्पनीय है. बिहार में हमने न जाने कब से खुलेआम लॉटरी बिकते नहीं देखा है. ऐसे…

Read More

किशनगंज में आखिर क्यों कोई एनडीए नेता चुनाव लड़ने के लिए तैयार नहीं है?

जी हां, यह अजीब सिचुएशन है. किशनगंज पहुंचते ही इस सिचुएशन का पता चला. यहां के स्थानीय पत्रकारों ने बताया कि भले ही देश में भाजपा और एनडीए की तूती बोल रही हो. उसके टिकट के लिए मारामारी चल रही हो, मगर किशनगंज लोकसभा सीट से कोई बड़ा एनडीए नेता चुनाव लड़ने के लिए तैयार नहीं है. बीजेपी से एक बार लोकसभा चुनाव लड़े चुके पार्टी के कोषाध्यक्ष दिलीप जायसवाल ने भी अब मना कर दिया है, वे चाहते हैं कि उन्हें किशनगंज छोड़कर किसी दूसरे सीट से टिकट दिया…

Read More

न उद्योग, न धंधा, फिर क्यों दुनिया का सातवां सबसे प्रदूषित शहर है पटना?

ग्रीनपीस और एयरविजुअल ने मिलकर ‘2018 वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट’ नाम से वायु प्रदूषण पर एक नयी रिपोर्ट जारी की है। इस रिपोर्ट में साल 2018 में पीएम 2.5 के प्रदूषण स्तर के डाटा को सामने लाया गया है। इस रिपोर्ट में यह सामने आया है कि दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में 15 शहर भारत में हैं। इसमें पटना सातवें स्थान पर है। यह आंकड़े इस वजह से भी हमारा मुंह चिढ़ा रहा है, क्योंकि बिहार के इस कैपिटल सिटी में न तो देश के बड़े महानगरों की…

Read More