प्रेम को मजबूती और मुक्ति का मार्ग बनाते हुए पीढ़ियों से स्त्री के मन में दबी इच्छा—आकांक्षा को स्वर देनेवाला पुरबियाउस्ताद

16 मार्च को महेंदर मिसिर की जयंती पर विशेष चंदन तिवारी आज महेंदर मिसिर की जयंती है. पुरबी इलाके के अदभुत और अपने तरीके के अनोखे रचनाकार थे वे. महेंदर मिसिर के एकाध गीतों को करीब दस—बारह सालों से छिटपुट गाती रही थी, बाद में जब पुरबियातान सीरिज की शुरुआत की तो उनके ही गीतों से की. अब तक करीब 16 अलग—अलग गीत गायी. जैसे—जैसे एक—एक कर उनके गीत गाती रही, उनके गीतों की दुनिया से गुजरती रही, उनके गीतों में और उनके व्यक्तित्व में और रुचि बढ़ती गयी. रामनाथ…

Read More