सौ मर्डर करके महायज्ञ कराने से पाप कम नहीं हो जाते कल्पना मैडम

गायिका कल्पना को तो आप सब जानते ही होंगे. भोजपुरी गीतों को अश्लीलता का पर्याय बना देने में जिन चंद लोगों की बड़ी भूमिका है उनमें निश्चित तौर पर एक गायिका कल्पना हैं. मगर अब जब भोजपुरी समाज के भीतर से इस अश्लीलता के खिलाफ आवाज उठ रही है तो गायिका कल्पना न सिर्फ खुद को भिखारी ठाकुर का तारणहार बताने में जुटी हैं, बल्कि मंच से भोजपुरिया समाज को ही डांटने डपटने लगती हैं. जानकार बताते हैं कि अश्लीलता से पैसे बटोरने के बाद अब कल्पना भेस बदलकर पद्मश्री…

Read More

पटना के बाबर इमाम से पूछिये ग़ालिब कौन हैं

पुष्यमित्र पूछते हैं वो कि ‘ग़ालिब’ कौन है कोई बतलाओ कि हम बतलाएँ क्या। ग़ालिब का यह शेर काफी मशहूर है. मगर मियां ग़ालिब को उसके ही मुल्क में कितने लोग जानते समझते हैं. उर्दू के चार हजार और फ़ारसी के दस हजार शेरों में से बमुश्किल छंटाक भर शेर ऐसे हैं, जिन्हें समझते-बूझते और दुहराते रहते हैं. ग़ालिब के दीवान में कुछ शब्दों के मायने फुटनोट्स में लिखे रहते हैं, उनकी मदद से हम थोड़ा आगे बढ़ते हैं. मगर कितना, उनके 90 फीसदी शेर आज भी हमारे लिये अजनबी…

Read More

इस मौसम में मिस मत कीजिये बथुआ का झोर

झोर देसी शब्द है, अगर समझ नहीं आये तो इसे सूप कह सकते हैं. ठंड के मौसम में गरमागरम बथुआ का झोर मिल जाये तो समझिये स्वर्ग में ही हैं.

Read More