फिर एक नया नेशनल अवार्ड जीत कर लौटी हैं पूर्णिया की ये महिलाएं  

बासु मित्र

पूर्णिया जिले की अरण्यक एग्री प्रोड्यूसर कंपनी को एक बार फिर से राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित किया गया है. इसे नई दिल्ली में 14-15 दिसंबर को आयोजित हुए पहले अखिल भारतीय प्रगतिशील किसान सम्मलेन में बेस्ट किसान उत्पादन संगठन का अवार्ड दिया गया है. कंपनी की तरफ से यह अवार्ड कंपनी के डायरेक्टर और सचिव आशा देवी, कोषाध्यक्ष शमशीदा खातून और कंपनी के सीईओ संतोष कुमार को दिया गया. यह देश में किसानों का पहला कन्वेंशन था जो भारतीय कृषि एवं खाद्य परिषद के द्वारा आयोजित किया गया था. इससे पहले एग्री कमोडिटी में देश का सबसे बड़ी कमोडिटी एक्सचेंज एनसीडीईएक्स ने भी सितंबर में कृषि उत्पादों की बेहतर फ्यूचर ट्रेडिंग के लिए इन महिलाओं को सम्मानित किया था.

देश में पहली बार आयोजित इस किसान सम्मलेन में अरण्यक एग्री प्रोड्यूसर कंपनी कंपनी के बिजनेस मॉडल की धूम रही. कंपनी की कोषाध्यक्ष शमशीदा खातून ने अरण्यक के मॉडल को बताते हुए जानकारी देते हुए बताया कैसे बिहार के एक छोटे से कस्बे की अनपढ़ महिला समूह ने महज कुछ साल के अंदर मक्का ट्रेडिंग कर किसानों किसानों के उत्पादों को ज्यादा फयादा दिलाने का काम कर रही है.

2009 में धमदाहा से अरण्यक एग्री प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड कंपनी की कमान जीविका समूह की 10 महिलाओं के हाथ में है. जिनके द्वारा समय समय पर सभी शेयर धारकों के साथ बैठक कर कंपनी की गतिविधियों की जानकारी देने के साथ साथ कंपनी के काम की रणनीति तय की जाती है. कंपनी ने दो साल पहले मक्का ट्रेडिंग का काम करना शुरू किया. पहले साल हमारे साथ सिर्फ 10 उत्पाद समूहों जुड़े थे. अगले साल कंपनी ने अपने काम को विस्तार देते हुए 17 और नए समूहों को जोड़ा.कंपनी ने इस बार पूर्णिया जिले के धमदाहा के अलावा, बड़हरा कोठी, बनमनखी, भवानीपुर प्रखंड से साथ-साथ कटिहार जिले के कोढ़ा प्रखंड में भी अपने काम का विस्तार किया है. अबतक कंपनी 122 उत्पाद समूहों को अपने साथ जोड़ चुकी है. आज कंपनी में 2600 शेयर होल्डर हैं, जिन्हें प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से फायदा पहुंच रहा है.

आशा देवी बताती हैं कि पहले साल कंपनी ने महज 1014 मीट्रिक टन मक्का की खरीद बिक्री की जिससे 10 लाख का मुनाफा हुआ. साल 2016 में कंपनी ने 3064 मीट्रिक टन मक्का की खरीद की और कंपनी को 32 लाख का मुनाफा हुआ. जिसे 833 शेयर होल्डरों में जिन्होंने अपना मक्का कंपनी को बेचा था उनमें 60 रूपये प्रति क्विंटल के हिसाब से बोनस के रूप में बांटा गया. साल 2017 में ने कंपनी ने कंपनी ने 14 हजार मीट्रिक टन मक्का खरीदा था.

Spread the love

Related posts