पटना में स्वागत कीजिये बाल विवाह के खिलाफ डट खड़ी हुई इन सौ किशोरियों का

ये किशोरियां कल शाम ही अलग-अलग जिलों से बिहार की राजधानी पटना पहुंच गयी हैं. इनकी खासियत है कि ये सभी अपने-अपने इलाकों में बाल विवाह के खिलाफ संघर्ष में जुटी हैं. या तो इन्होंने खुद को बाल विवाह का शिकार होने से बचाया है, या अपनी सहेलियों को. बिहार के पांच जिलों मुजफ्फरपुर, रोहतास, जमुई, शिवहर व पश्चिमी चम्पारण से आयीं ये किशोरियां अपने-अपने गांवों में समूह बनाकर रहती हैं और न सिर्फ बाल विवाह बल्कि किशोरियों के दूसरे अधिकार जैसे पढ़ाई-लिखाई, खेलना, बराबरी का हक आदि के लिए भी सजग रहती हैं और एक दूसरे की मदद करती हैं.

इन किशोरियों के काम करने का तरीका गजब है. अगर किसी एक किशोरी के बाल विवाह की योजना बन रही होती है तो ये सभी एक साथ जाकर उसके माता-पिता को समझाती हैं. अगर इससे भी बात नहीं बनी तो आठ-दस किशोरियां एक साथ किसी कमरे में खुद को दो-तीन दिनों के लिए कैद कर लेती हैं. ऐसा ही वे तब करती हैं, जब किसी किशोरी की पढ़ाई छुड़वा दी जाती है. इन कोशिशों के सकारात्मक नतीजे आ रहे हैं. कई किशोरियों की इस तरह असमय शादी रोकी जा सकी है.

इन्हीं किशोरियों में से पांच ने पिछले दिनों राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था कि उनके गांव में स्कूल खुलवा दें, नहीं तो वे बाल विवाह का शिकार हो सकती हैं. ये मानती हैं कि शिक्षा ही बाल विवाह से बचने का सबसे कारगर तरीका है. अगर वे पढ़ रही होती हैं, तो मां-बाप या आस-पड़ोस के लोग शादी का दबाव नहीं बनाते हैं. खाली बैठी रहती हैं तो दबाव आसानी से बन जाता है.

किशोरियों के साथ बैठी अख्तरी जी

आज और कल ये किशोरियां राजधानी पटना में रहेंगी और इस बात की चर्चा करेंगी कि कैसे बाल विवाह, स्कूल ड्राप आउट और इस उम्र की दूसरी समस्याओं का मुकाबला किया जा सकता है. हंगर प्रोजेक्ट संस्था इन्हें इनके इस जुटान में मदद कर रही है. यह संस्था 2001 से ही बिहार में महिला पंचायती राज प्रतिनिधियों और किशोरियों की मदद के लिए काम करती हैं. यह आयोजन फ्रेजर रोड स्थित यूथ हॉस्टल में होने जा रहा है.

दो दिनों के इस सम्मेलन में महिला विकास निगम की प्रबंध निदेशक एन विजयलक्ष्मी, स्वीडन एम्बेसी के डिप्टी मिनिस्टर गौतम भट्टाचार्य, हंगर प्रोजेक्ट की कंट्री डायरेक्टर रीटा सरीन, राज्य महिला आयोग और बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष मौजूद रहेंगे. अंतिम दिन समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा के उपस्थित रहने की भी संभावना है. इस मौके पर किशोरियां आपस में चर्चा तो करेंगी ही, उन्हें फिल्म दिखाया जायेगा और वे सांस्कृतिक गतिविधियों का आयोजन करेंगी.

इस मौके पर जानी-मानी भोजपुरी गायिका चंदन तिवारी, राष्ट्रीय कबड्डी टीम की सदस्य शमा परवीन, जादूगर कंचन प्रिया और पुलिसकर्मी रंजना को सम्मानित किया जायेगा. क्योंकि इन युवतियों ने किशोरावस्था से ही जिद करके अपने माहौल को बदलने की कोशिश की है. हंगर प्रोजेक्ट की पटना टीम की तरफ से शाहिना परवीन, रंजना कुमारी और कुमार विमलकांत इस आयोजन को सफल बनाने में जुटे हैं.

 

Spread the love

Related posts