“अजीमाबाद” में आज लॉंच हो रहा है गीताश्री का पहला नॉवेल “हसीनाबाद”

जानी-मानी लेखिका गीताश्री का पहला नॉवेल हसीनाबाद आज पटना पुस्तक मेला में लॉंच हो रहा है. दोपहर साढ़े तीन बजे से पुस्तक विमोचन कार्यक्रम है. यह विमोचन हिंदी-मैथिली की सुपरिचित कथाकार उषाकिरण खान, वरिष्ठ कथाकार हृषिकेश सुलभ और अवधेश प्रीत के हाथों होगा. लॉंचिंग से पहले ही हसीनाबाद की अच्छी समीक्षाएं आ रही हैं. दिलचस्प है कि गीता श्री की दो और किताबें पटना पुस्तक मेला से ही लॉंच हुई हैं. उन्होंने इस बात को अपने इस फेसबुक पोस्ट में बड़ी शिद्दत से याद किया है.

हसीन संयोग

मेरा पहला कहानी संग्रह “ प्रार्थना के बाहर एवं अन्य कहानियाँ भी पटना बुक फेयर में ही रिलीज हुई थी. शाम के धुँधलके में, खुले प्रांगण में, भीड़ उमड़ी हुई थी. वरिष्ठ कथाकार हृषिकेश सुलभ जी, रामधारी सिंह दिवाकर जी, लोक गायिका शारदा सिन्हा जी मौजूद थे और संचालन निवेदिता जी कर रही थीं.
शारदा जी ने सुभे हो सुभे … जो गाया, अभी तक गूँज रहा है. सुलभ जी ने जो भरोसा जताया था मेरी लेखनी पर , मैने खरा उतरने की पूरी कोशिश की.
आदिवासी लड़कियों की तस्करी पर आधारित शोध किताब “ सपनों की मंडी” भी पटना बुक फेयर में वाणी प्रकाशन के स्टॉल पर लोकार्पित हुई. नसीमा खातून आई थीं. अकू श्रीवास्तव जी तब वहाँ हिंदुस्तान के संपादक थे. उनका साथ मिला था.
अब फिर से पहले उपन्यास “ हसीनाबाद” का विमोचन , कल पटना बुक फेयर में ही होने जा रहा है.
शुभ संयोग !
पहले कहानी संग्रह के बाद मैने पलट कर पीछे नहीं देखा. लगातार काम करती रही…किताबें आती रहीं…
अब उपन्यास की बारी…
आइएगा…
इस बार फिर साथ हैं.. उषा किरण खान , सुलभ जी और अवधेश प्रीत जी !!

Spread the love

Related posts